Hindi Story 2 (Bhaiyon ka Prem)

Hindi Motivational Story
Hindi Motivational Story

भाई -भाई 

 राम ,लखन ,भरत ,शत्रुघ्न भाईयो का बचपन का एक प्रसंग है …

जब ये लोग गेंद खेलते थे। तो लक्ष्मण राम की साइड उनके पीछे होते थे और सामने वाले पाले में भरत- शत्रुघ्न होते थे ।

तब लक्ष्मण हमेशा भरत को बोलते- राम भैया सबसे ज्यादा मुझे प्यार करते है तभी वो हर बार अपने पाले में अपने साथ मुझे रखते है।

 लेकिन भरत कहते नहीं- राम भैया सबसे ज्यादा मुझे प्यार करते है तभी वो मुझे सामने वाले पाले में रखते है ताकि हर पल उनकी नजरें मेरे ऊपर रहे, वो मुझे हर पल देख पाए , क्योंकि साथ वाले को देखने के लिए तो उनको मुड़ना पड़ेगा ।

फिर जब भरत गेंद को राम की तरफ उछालते तो राम जानबूझ कर गेंद को छोड़ देते और हार जाते , फिर पूरे नगर में उपहार और मिठाईयां बांटते खुशी मनाते ।

सब पूछते राम जी आप तो हार गए फिर आप इतने खुश क्यों है, राम बोलते -मेरा भरत जीत गया ।

फिर लोग सोचते जब हारने वाला इतना कुछ बांट रहा है तो जितने वाला भाई तो पता नहीं क्या-क्या देगा…

लोग भरत जी के पास जाते है । लेकिन ये क्या भरत तो लंबे लंबे आंसू बहाते हुए रो रहे है ।

लोगो ने पूछा – भरत जी आप तो जीत गए है फिर आप क्यों रो रहे है ?

भरत बोले – देखिये मेरी कैसी विडंबना है मैं जब भी अपने प्रभु के सामने होता हूँ तभी जीत जाता हूँ । मैं उनसे जीतना नहीं मैं उनको अपना सब हारना चाहता हूं । मैं खुद को हार कर उनको जीतना चाहता हूं…

इसलिए कहते है भक्त का कल्याण भगवान को अपना सब कुछ हारने में है , सब कुछ समर्पण करके ही हम भगवान को पा सकते है…

एक भाई दूसरे भाई को जीता कर खुश है ।

दूसरा भाई अपने भाई से जीत कर दुखी है ।

Hindi Story – Bhai Bhai

इसलिए कहते है खुशी लेने में नही देने में है

Share

1 Trackback / Pingback

  1. दिन की सही शुरुआत -

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*