Hindi Story -Criticism

Hindi Story -Criticism
Hindi Story -Criticism

This hindi story ‘Criticism’ is about a painter.We can learn from this hindi story that you should not take care of criticism.If you like this hindi story then comment and share.

Hindi Story -Criticism

           एक नगर में एक मशहूर चित्रकार रहता था। चित्रकार ने एक बहुत ही सुन्दर तस्वीर बनाई उसे नगर के चैराहे में लगा दिया और नीचे लिख दिया कि जिस किसी को, जहाँ भी इसमें कमी नजर आये वह वहाँ निशान लगा दे।

            जब उसने शाम को तस्वीर देखी, उसकी पूरी तस्वीर निशानों से खराब हो चुकी थी, यह देख वह बहुत दुखी हुआ।

           उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि अब क्या करे, वह दुःखी बैठा हुआ था । तभी उसका एक मित्र वहाँ से गुजरा उसने उसके दुःखी होने का कारण पूछा तो उसने उसे पूरी घटना बताई।
           उसने कहा एक काम करो कल दूसरी तस्वीर बनाना और उसमें लिखना कि जिस किसी को इस तस्वीर में जहाँ कहीं भी कमी नजर आये, उसे सही कर दे, उसने अगले दिन यही किया।
           शाम को जब उसने तस्वीर देखी तो उसने देखा की तस्वीर पर किसी ने कुछ नहीं किया ।

            वह संसार की रीति समझ गया – कमी निकालना, निंदा करना, बुराई करना आसान है लेकिन उन कमियों को दूर करना अत्यन्त कठिन है।

Share

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*