Hindi Motivational Story 6 (Do Dost)

Best Motivational Story
Best Motivational Story

Hindi Motivational Story

एक बार दो दोस्त रेगिस्तान पार कर रहे थे । रास्ते में उनका किसी बात पर झगड़ा हो गया और एक दोस्त ने दूसरे दोस्त को गुस्से में आकर थप्पड़ मार दिया ।

दूसरे दोस्त को इस बात से दिल पर बहुत ठेस पहुंची  और उसने रेत पर एक लकड़ी से लिखा -“आज मेरे सबसे अच्छे दोस्त ने छोटा सा झगड़ा होने पर थप्पड़ मार दिया ।”

रेगिस्तान में वे एक दुसरे को छोड़कर नहीं जा सकते थे, इसलिए उन्होंने सफर जारी रखा और सोचा मंज़िल पर पहुँचकर इस झगडे को सुलझाया जायेगा।

वे आपस में बिना बात किये, साथ साथ चलते रहे, आगे उन्हें एक बड़ी झील मिली । उन्होंने इस झील में नहाकर तरोताज़ा होने का फैसला किया । झील के दुसरे किनारे पर एक बहुत खतरनाक दलदल था । वह दोस्त जिसे चांटा मारा गया था, तैरते – तैरते झील के दूसरे किनारे पर इस दलदल में जा फंसा और डूबने लगा ।

उसके दोस्त ने जब यह देखा, तो वह भी तुरंत उस तरफ तैर कर आया और अपने दोस्त को बड़ी मशक्क़त के बाद बाहर निकल लिया ।

 जिस दोस्त को दलदल से बचाया गया था उसने झील के किनारे एक बड़े पत्थर पर लिखा

“आज मेरे दोस्त ने मेरी जान बचाई।”

 दूसरे दोस्त ने यह देखकर पूछा – “ जब मैंने तुम्हे थप्पड़ मारा था तो तुमने उसे रेत पर लिखा । लेकिन जब मैंने तुम्हारी जान बचाई तो तुमने पत्थर पर लिखा, ऐसा क्यों ? ”

 दूसरे दोस्त ने जवाब दिया –

“ जब हमें कोई दुःख पहुंचाता है तो हमें इसे रेत पर लिखना चाहिए, जहाँ वक़्त और माफ़ी की हवाएँ उसे मिटा दें। लेकिन जब कोई हमारे साथ अच्छा बर्ताव करे, तो हमें उसे पत्थर पर लिखना चाहिए, जहाँ उसे कोई मिटा ना सके।”


सीख – मित्र की अच्छी बातों को दिल में हमेशा रखना चाहिए,बुरी बातों को दिल से निकल देना चाहिए ।

Share

3 Trackbacks / Pingbacks

  1. Hindi Moral Story - "Relations" - Hindi Digest
  2. Hindi Moral Story - Takleef - Hindi Digest
  3. Hindi Moral Story - Vatavaran - Hindi Digest

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*